Shiv adbhut roop banaye | NEW SHIV BHAJAN


Shiv adbhut roop banaye

Shiv adbhut roop banaye, jab byaah rachane aaye,
bhut betal the, sabg me chandal the।
kaisi baarat siv sajaye, jab byaah rachane aaye।
langade-lule the, andhe-kaane bhi the,
shukar-shanichar ko bhi sang laaye, jab byaah rachane aaye।
aaye sab devta, paaye jab devta,
deviyo ko bhi sang me laaye, jab byaah rachane aaye।
log darne lage aur yeh kahne lage,
roop kaisa gajab banaye, jab byaah rachaane aaye।
bolo satayam, shivam hai vahi sunderam,
gora ke man ko bhaye shiv adbhut roop banaye।

शिव अदभुत रूप बानाए, जब ब्याह रचाने आए,
भुत बेताल थे, सब्ग में चंडाल थे।
कैसी बारात सिव सजाए, जब ब्याह रचाने आए।
लंगड़े-लूले थे, अंधे-काणे भी थे,
शुक्र-शनिचर को भी संग लाये, जब ब्याह रचाने आए।
आए सब देवता, पाए जब देवता,
देवियों को भी संग में लाए, जब ब्याह रचाने आए।
लोग डरने लगे और यह कहने लगे,
रूप कैसा गजब बानाए, जब ब्याह रचाने आए।
बोलो सत्यम, शिवम् है वही सुन्दरम,

गोरा के मन को भाए शिव अदभुत रूप बानाए।
Previous Post Next Post