tulsi ji ki aarti | श्री तुलसी जी की आरती




श्री तुलसी जी की आरती

जय जय तुलसी माता, 
सबकी सुखदाता वर माता |

 सब योगों के ऊपर, 
सब रोगों के ऊपर,
 रज से रक्षा करके भव त्राता | 

बहु पुत्री है श्यामा, सूर वल्ली है ग्राम्या, 
विष्णु प्रिय जो तुमको सेवे सो नर तर जाता |

 हरि के शीश विराजत त्रिभुवन से हो वंदित,
 पतित जनों की तारिणि तुम हो विख्याता |

 लेकर जन्म बिजन में, आई दिव्य भवन में, 
मानव लोक तुम्हीं से सुख संपति पाता |

 हरि को तुम अति प्यारी श्याम वर्ण सुकुमारी,
 प्रेम अजब है श्री हरि का तुम से नाता |


 tulsi ji ki aarti

jay jay tulasee maata, 
sabakee sukhadaata var maata |

 sab yogon ke oopar, 
sab rogon ke oopar,
 raj se raksha karake bhav traata | 

bahu putree hai shyaama, soor vallee hai graamya, 
vishnu priy jo tumako seve so nar tar jaata |

 hari ke sheesh viraajat tribhuvan se ho vandit,
 patit janon kee taarini tum ho vikhyaata |

 lekar janm bijan mein, aaee divy bhavan mein, 
maanav lok tumheen se sukh sampati paata |

 hari ko tum ati pyaaree shyaam varn sukumaaree,
 prem ajab hai shree hari ka tum se naata |


Previous Post Next Post