Shri Ramayana ji ki  Aarti| श्री रामायण जी की आरती


श्री रामायण जी की आरती |shri ramayan ji ki aarti lyrics


आरती श्री रामायण जी की | 
कीरत कलित ललित सिय पिय की |
 गावत ब्रह्मादिक मुनि नारत | 
बाल्मीक विज्ञानी विशारद | 
शुक सनकादि शेष अरु सारद | 
वरनि पवन सुत कीरति निकी | 
संतन गावत शम्भु भवानी | 
असु घट सम्भव मुनि विज्ञानी | 
व्यास आदि कवि पुंज बखानी |
 काग भूसुनिड गरुड़ के हिय की | 
चारों वेद पूरान अष्ठदस | 
छहों होण शास्त्र सब ग्रन्थ्न को रस | 
तन मन धन संतन को सर्वस | 
सारा अंश सम्मत सब ही की | 
कलिमल हरनि विषय रस फीकी |
 सुभग सिंगार मुक्ती जुवती की | 
हरनि रोग भव भूरी अमी की | 
तात मात सब विधि तुलसी की |


 Shri Ramayana ji ki  Aarti |shri ramayan ji ki aarti lyrics


aaratee shree raamaayan jee kee | 

keerat kalit lalit siy piy kee |

 gaavat brahmaadik muni naarat | 

baalmeek vigyaanee vishaarad | 

shuk sanakaadi shesh aru saarad | 

varani pavan sut keerati nikee | 

santan gaavat shambhu bhavaanee | 

asu ghat sambhav muni vigyaanee | 

vyaas aadi kavi punj bakhaanee |

 kaag bhoosunid garud ke hiy kee | 

chaaron ved pooraan ashthadas | 

chhahon hon shaastr sab granthn ko ras | 

tan man dhan santan ko sarvas | 

saara ansh sammat sab hee kee | 

kalimal harani vishay ras pheekee |

 subhag singaar muktee juvatee kee | 

harani rog bhav bhooree amee kee | 


taat maat sab vidhi tulasee kee |

Previous Post Next Post