shri pretaraaj sarakaar ji ki aarti | श्री प्रेतराज सरकार जी की आरती



श्री प्रेतराज सरकार जी की आरती

जय प्रेतराज कृपालु मेरी, 
अरज अब सुन लीजिये | 

मैं शरण तुम्हारी आ गया हूँ, 
नाथ दर्शन दीजिये | 

मैं करूं विनती आपसे अब,
 तुम दयामय चित धरो | 

चरणों का ले लिया आसरा, 
प्रभु वेग से मेरा दुःख हरो | 

सिर पर मोरमुकुट करमें धनुष,
 गलबीच मोतियन माल है | 

जो करे दर्शन प्रेम से सब,
 कटत तन के जाल है | 

जब पहन बख्तर ले खड़ग, 
बांई बगल में ढाल है | 

ऐसा भयंकर रूप जिनका, 
देख डरपत काल है | 

अति प्रबल सेना विकट योद्धा,
संग में विकराल है | 

तब भूत प्रेत पिशाच बांधे,
 कैद करते हाल है |

 तब रूप धरते वीर का, 
करते तैयारी चलन की |

 संग में लड़ाके ज्वान जिनकी,
 थाह नहीं है बलन की | 

तुम सब तरह समर्थ हो, 
प्रभुसकल सुख के धाम हो | 

दुष्टों के मारनहार हो, 
भक्तों के पूरण काम हो |

 मैं हूँ मती का मन्द मेरी,
 बुद्धि को निर्मल करो |

 अज्ञान का अंधेर उर में, 
ज्ञान का दीपक धरो | 

सब मनोरथ सिद्ध करते, 
जो कोई सेवा करे |

 तन्दुल बूरा घृत मेवा,
भेंट ले आगे धरे |

 सुयश सुन कर आपका,
 दुखिया तो आये दूर के |

 सब स्त्री अरु पुरुष आकर,
 पड़े हैं चरण हजूर के | 

लीला है अदभुत आपकी,
 महिमा तो अपरंपार है | 

मैं ध्यान जिस दम धरत हूँ,
 रच देना मंगलाचार है | 

सेवक गणेशपुरी महन्त जी,
 की लाज तुम्हारे हाथ है |

 करना खता सब माफ़, 
उनकी देना हरदम साथ है | 

दरबार में आओ अभी, 
सरकार में हाजिर खड़ा | 

इन्साफ मेरा अब करो,
 चरणों में आकर गिर पड़ा | 

अर्जी बमूजिब दे चुका,
अब गौर इस पर कीजिये |

 तत्काल इस पर हुक्म लिख दो, 
फैसला कर दीजिये |

 महाराज की यह स्तुति, 
कोई नेम से गाया करे |

 सब सिद्ध कारज होय उनके, 
रोग पीड़ा सब टरे | 

"सुखराम" सेवक आपका,
 उसको नहीं बिसराइये | 

जै जै मनाऊं आपकी, 
बेड़े को पार लगाइये |


shri pretaraaj sarakaar ji ki aarti

shri pretaraaj sarakaar ji ki aarti
shri pretaraaj sarakaar ji ki aarti


jay pretaraaj krpaalu meree, 

araj ab sun leejiye | 


main sharan tumhaaree aa gaya hoon, 

naath darshan deejiye | 


main karoon vinatee aapase ab,

 tum dayaamay chit dharo | 


charanon ka le liya aasara, 

prabhu veg se mera duhkh haro | 


sir par moramukut karamen dhanush,

 galabeech motiyan maal hai | 


jo kare darshan prem se sab,

 katat tan ke jaal hai | 


jab pahan bakhtar le khadag, 

baanee bagal mein dhaal hai | 


aisa bhayankar roop jinaka, 

dekh darapat kaal hai | 


ati prabal sena vikat yoddha,

sang mein vikaraal hai |


tab bhoot pret pishaach baandhe,

 kaid karate haal hai |


 tab roop dharate veer ka, 

karate taiyaaree chalan kee |


 sang mein ladaake jvaan jinakee,

 thaah nahin hai balan kee | 


tum sab tarah samarth ho, 

prabhusakal sukh ke dhaam ho | 


dushton ke maaranahaar ho, 

bhakton ke pooran kaam ho |


 main hoon matee ka mand meree,

 buddhi ko nirmal karo |


 agyaan ka andher ur mein, 

gyaan ka deepak dharo | 


sab manorath siddh karate, 

jo koee seva kare |


 tandul boora ghrt meva,

bhent le aage dhare |


suyash sun kar aapaka,

 dukhiya to aaye door ke |


 sab stree aru purush aakar,

 pade hain charan hajoor ke | 


leela hai adabhut aapakee,

 mahima to aparampaar hai | 


main dhyaan jis dam dharat hoon,

 rach dena mangalaachaar hai | 


sevak ganeshapuree mahant jee,

 kee laaj tumhaare haath hai |


 karana khata sab maaf, 

unakee dena haradam saath hai | 


darabaar mein aao abhee, 

sarakaar mein haajir khada | 


insaaph mera ab karo,

 charanon mein aakar gir pada | 


arjee bamoojib de chuka,

ab gaur is par keejiye |


tatkaal is par hukm likh do, 

phaisala kar deejiye |



 mahaaraaj kee yah stuti, 

koee nem se gaaya kare |



 sab siddh kaaraj hoy unake, 

rog peeda sab tare | 



"sukharaam" sevak aapaka,

 usako nahin bisaraiye | 



jai jai manaoon aapakee, 


bede ko paar lagaiye |



Previous Post Next Post