shankar ji ki aarti | श्री शंकर जी की आरती


         श्री शंकर जी की आरती |shankar ji ki aarti 

धन धन भोले नाथ तुम्हारे कौड़ी नहीं खजाने में,
 तीन लोक बस्ती में बसाये आप बसे वीराने में |

 जटा जूट के मुकुट शीश पर गले में मुंडन की माला,
 माथे पर छोटा चन्द्रमा कपाल में करके व्याला | 

जिसे देखकर भय ब्यापे सो गले बीच लपटे काला, 
और तीसरे नेत्र में तेरे महा प्रलय की है ज्वाला |

 पीने को हर भंग रंग है आक धतुरा खाने का,
 तीन लोक बस्ती में बसाये आप बसे वीराने में | 

नाम तुम्हारा है अनेक पर सबसे उत्तत है गंगा, 
वाही ते शोभा पाई है विरासत सिर पर गंगा |

 भूत बोतल संग में सोहे यह लश्कर है अति चंगा, 
तीन लोक के दाता बनकर आप बने क्यों भिखमंगा | 

अलख मुझे बतलाओ क्या मिलता है अलख जगाने में, 
ये तो सगुण स्वरूप है निर्गुन में निर्गुन हो जाये | 

पल में प्रलय करो रचना क्षण में नहीं कुछ पुण्य आपाये, 
चमड़ा शेर का वस्त्र पुराने बूढ़ा बैल सवारी को |

 जिस पर तुम्हारी सेवा करती, धन धन शैल कुमारी को,
क्या जान क्या देखा इसने नाथ तेरी सरदारी को |
 सुन तुम्हारी ब्याह की लीला भिखमंगे के गाने में | 
तीन लोक बस्ती में बसाये.................



 किसी का सुमिरन ध्यान नहीं तुम अपने ही करते हो जाप, 
अपने बीच में आप समाये आप ही आप रहे हो व्याप |
 हुआ मेरा मन मग्न ओ बिगड़ी ऐसे नाथ बचाने में,
 तीन लोक बस्ती में बसाये................. 



कुबेर को धन दिया आपने, दिया इन्द्र को इन्द्रासन, 
अपने तन पर ख़ाक रमाये पहने नागों का भूषण |
 मुक्ति के दाता होकर मुक्ति तुम्हारे गाहे चरण, 
"देवीसिंह ये नाथ तुम्हारे हित से नित से करो भजन | 
तीन लोक बस्ती में बसाये...


            shankar ji ki aarti |श्री शंकर जी की आरती 


dhan dhan bhole naath tumhaare kaudee nahin khajaane mein,

 teen lok bastee mein basaaye aap base veeraane mein |



 jata joot ke mukut sheesh par gale mein mundan kee maala,

 maathe par chhota chandrama kapaal mein karake vyaala | 



jise dekhakar bhay byaape so gale beech lapate kaala, 

aur teesare netr mein tere maha pralay kee hai jvaala |



 peene ko har bhang rang hai aak dhatura khaane ka,

 teen lok bastee mein basaaye aap base veeraane mein | 



naam tumhaara hai anek par sabase uttat hai ganga, 

vaahee te shobha paee hai viraasat sir par ganga |



 bhoot botal sang mein sohe yah lashkar hai ati changa,

teen lok ke daata banakar aap bane kyon bhikhamanga | 



alakh mujhe batalao kya milata hai alakh jagaane mein, 

ye to sagun svaroop hai nirgun mein nirgun ho jaaye | 



pal mein pralay karo rachana kshan mein nahin kuchh puny aapaaye, 

chamada sher ka vastr puraane boodha bail savaaree ko |



 jis par tumhaaree seva karatee, dhan dhan shail kumaaree ko,

kya jaan kya dekha isane naath teree saradaaree ko |

 sun tumhaaree byaah kee leela bhikhamange ke gaane mein | 

teen lok bastee mein basaaye.................


kisee ka sumiran dhyaan nahin tum apane hee karate ho jaap, 

apane beech mein aap samaaye aap hee aap rahe ho vyaap |

 hua mera man magn o bigadee aise naath bachaane mein,

 teen lok bastee mein basaaye................. 







kuber ko dhan diya aapane, diya indr ko indraasan, 

apane tan par khaak ramaaye pahane naagon ka bhooshan |

 mukti ke daata hokar mukti tumhaare gaahe charan, 

"deveesinh ye naath tumhaare hit se nit se karo bhajan | 


teen lok bastee mein basaaye...




Previous Post Next Post