Geeta ji ki Aarti | श्री गीता जी की आरती






श्री गीता जी की आरती | Geeta ji ki Aarti


करो आरती गीता जी की ||

जग की तारन हार त्रिवेणी,
स्वर्गधाम की सुगम नसेनी |

अपरम्पार शक्ति की देनी,
जय हो सदा पुनीता की ||

ज्ञानदीन की दिव्य-ज्योती मां,
 सकल जगत की तुम विभूती मां |

महा निशातीत प्रभा पूर्णिमा,
 प्रबल शक्ति भय भीता की || करो०

अर्जुन की तुम सदा दुलारी,
सखा कृष्ण की प्राण प्यारी |

षोडश कला पूर्ण विस्तारी,
छाया नम्र विनीता की || करो० ||

 श्याम का हित करने वाली,
मन का सब मल हरने वाली |

नव उमंग नित भरने वाली,
परम प्रेरिका कान्हा की || करो० ||


Geeta ji ki Aarti | श्री गीता जी की आरती


karo aaratee geeta jee kee || 



jag kee taaran haar trivenee, 

svargadhaam kee sugam nasenee | 



aparampaar shakti kee denee, 

jay ho sada puneeta kee || 



gyaanadeen kee divy-jyotee maan,

 sakal jagat kee tum vibhootee maan | 



maha nishaateet prabha poornima,

 prabal shakti bhay bheeta kee || karo0 



arjun kee tum sada dulaaree, 

sakha krshn kee praan pyaaree | 



shodash kala poorn vistaaree, 

chhaaya namr vineeta kee || karo0 ||



 shyaam ka hit karane vaalee, 

man ka sab mal harane vaalee | 



nav umang nit bharane vaalee, 


param prerika kaanha kee || karo0 ||
Previous Post Next Post