गायत्री माता का आरती | Gayatri Mata Ki Aarti



गायत्री माता का आरती 

ज्ञान दीप और श्रद्धा की बाती,

 सो भक्ति ही पूर्ती करै जहं घी की | 
आरती श्री गायत्री जी की | 


मानस की शुचि थाल के ऊपर,
 देवी की जोति जगै, जहं नीकी | 
आरती श्री गायत्री जी की 

शुद्ध मनोरथ के जहां घण्टा, 
बाजैं करैं पूरी आसहु ही की | 
आरती श्री गायत्री जी की |

 जाके समक्ष हमें तिहूँ लोक कै, 
गद्दी मिलै तबहूं लगै फीकी | 
आरती श्री गायत्री जी की | 

संकट आवैं न पास कबौ तिन्हें,
 सम्पदा औ सुख की बनै लीकी | 
आरती श्री गायत्री जी की | 

आरती प्रेम सो नेम सों करि,
ध्यावहिं मूरति ब्रह्म लली की |
 आरती श्री गायत्री जी की | 


 Gayatri Mata Ki Aarti | गायत्री माता का आरती


 गायत्री माता का आरती 

gyaan deep aur shraddha kee baatee,



 so bhakti hee poortee karai jahan ghee kee | 

aaratee shree gaayatree jee kee | 





maanas kee shuchi thaal ke oopar,

 devee kee joti jagai, jahan neekee | 

aaratee shree gaayatree jee kee | 



shuddh manorath ke jahaan ghanta, 

baajain karain pooree aasahu hee kee | 

aaratee shree gaayatree jee kee 


jaake samaksh hamen tihoon lok kai, 

gaddee milai tabahoon lagai pheekee | 

aaratee shree gaayatree jee kee | 



sankat aavain na paas kabau tinhen,

 sampada au sukh kee banai leekee | 

aaratee shree gaayatree jee kee | 



aaratee prem so nem son kari,

dhyaavahin moorati brahm lalee kee |


 aaratee shree gaayatree jee kee |

Previous Post Next Post