ambe maa aarti | jai ambe gauri |श्री गौरी अम्बे जी की आरती 


श्री गौरी अम्बे जी की आरती 

मैं तेरा कंगाल पुजारी सौ-सौ दीप कहाँ से लाऊं |
 मेरे पास भक्ति है माता मैं उसी का दीप जलाऊँ |
 मैं एक दिए की आरती उतारूं गौरी मैया | जय

 जय अम्बे जगदम्बे गौरी जय अम्बे जगदम्बे | 
धन होता तो सोना चांदी सुख से अर्पण करता | 
हीरे मोती ला लाकर, मां तेरी झोली भरता | 
मांगे हुए दो फूल से सिंगर करूं गौरी मैया | जय 

ना मैं मांगू राजपाट मां और न चन्दा तारे | 
मैं तो सुख दुःख में बस मैया पकडूं चरण तुम्हारे |
 दिन रात तुम्हारा नाम ही पुकारूँ गौरी मैया | जय

 मेरे सब कुछ तेरी मूरति माँ इससे तो आ जाओ, 
मैं शाम सबेरे रास्ता निहारूं गौरी मैया | जय

jai ambe gauri |ambe maa aarti 



main tera kangaal pujaaree sau-sau deep kahaan se laoon |

 mere paas bhakti hai maata main usee ka deep jalaoon |

 main ek die kee aaratee utaaroon gauree maiya | jay



 jay ambe jagadambe gauree jay ambe jagadambe | 

dhan hota to sona chaandee sukh se arpan karata | 

heere motee la laakar, maan teree jholee bharata | 

maange hue do phool se singar karoon gauree maiya | jay

na main maangoo raajapaat maan aur na chanda taare | 

main to sukh duhkh mein bas maiya pakadoon charan tumhaare |

 din raat tumhaara naam hee pukaaroon gauree maiya | jay



 mere sab kuchh teree moorati maan isase to aa jao, 

main shaam sabere raasta nihaaroon gauree maiya | jay

Previous Post Next Post