Aarti shiri raamachandr ki | आरती श्री रामचंद्र की 

आरती श्री रामचंद्र की
आरती श्री रामचंद्र की 


आरती श्री रामचंद्र की 


जगमग जगमग जोत जली है।
 राम आरती होन लगी है।। 
भक्ति का दीपक प्रेम की बाती। 
आरती संत करें दिन राती।। 
आनंद की सरिता उभरी है। 
जगमग जगमग जोत जली है।। 
कनक सिंघासन सिया समेता।
 बैठहिं राम होइ चित चेता।। 
वाम भाग में जनक लली है। 
जगमग जगमग ज्योत जली है।। 
आरती हनुमत के मन भावै। 
राम कथा नित शंकर गावै।।
 संतों की ये भीड़ लगी है।
 जगमग जगमग ज्योत जली है।।


Aarti shiri raamachandr ki |shri ram ji ki aarti

SHIRI RAM JI KI  Aarti
SHIRI RAM JI KI  Aarti

jagamag jagamag jot jalee hai.

 raam aaratee hon lagee hai.. 

bhakti ka deepak prem kee baatee. 

aaratee sant karen din raatee.. 

aanand kee sarita ubharee hai. 

jagamag jagamag jot jalee hai.. 

kanak singhaasan siya sameta.

 baithahin raam hoi chit cheta.. 

vaam bhaag mein janak lalee hai. 

jagamag jagamag jyot jalee hai.. 

aaratee hanumat ke man bhaavai. 

raam katha nit shankar gaavai..

 santon kee ye bheed lagee hai.


 jagamag jagamag jyot jalee hai..



Previous Post Next Post